Ham Kare Rashtra Aaradhan


Ham Karen Rashtra Aaradhan

हम करें राष्ट्र आराधन

-----------------------------------------------------------------------------------------------

हम करें राष्ट आराधना
तन से मन से धन से
तन मन धन जीवनसे
हम करें राष्ट आराधना।।धृ।।



अन्तर से मुख से कृती से
निश्र्चल हो निर्मल मति से
श्रध्धा से मस्तक नत से
हम करें राष्ट अभिवादन ।।१।।


अपने हंसते शैशव से
अपने खिलते यौवन से
प्रौढता पूर्ण जीवन से
हम करें राष्ट का अर्चन ।।२।।



अपने अतीत को पढकर
अपना ईतिहास उलटकर
अपना भवितव्य समझकर
हम करें राष्ट का चिंतन ।।३।।
Ham Kare Rashtra Aaradhan

Ham Kare Rashtra Aaradhan



Post a comment

0 Comments