Radh kenta Akbar Ki Sena (Marawari)


Radh kenta Akbar Ki Sena (Marawari)

रण खेताँ अकबर री सेना

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

रण खेताँ अकबर री सेना
रण खेताँ अकबर री सेेना, भेडाँ ज्यूँ ज्यूँ भड़कै हो।
राणाजी रा खेंखारा सूँ छाती धड़कै हो, कि छाती अकबर री।
हाँ रै छाती अकबर री यूँ थरथर काँपै हो, कि छाती अकबर री।।
भीलाँ रा भीलोड़ तीखा, बीं नैं दौरा लागै हो।
राणा जी रा भाला आगै, दुश्मण भागै हो, कि हल्दी घाटी में।
हाँ रै, हल्दी घाटी में यूँ भगदड़ मचगी रै, कि हल्दी घाटी में।
टप टप करताँ टापाँ रै कुण, भाखर भाटा तोडे़ हो।
इण बैर्यांरी छाती ऊपर, चेतक दौडे़ हो ,कि हल्दी घाटी में।
हाँ रै, हल्दी घाटी में यूँ भमचक मचग्यो रै, कि हल्दी घाटी में।।
कैलाशपुरी सूँ इकलिंगजी पधार्या, पहरयां मुण्डमाला हो।
खल खल करता बहग्या रै, रगताँ रा नाला हो, कि हल्दी घाटी में।
हाँ रै, हल्दी घाटी में घमसाण मचग्यो रै, कि हलदी घाटी में।।
Radh kenta Akbar Ki Sena (Marawari)
Radh kenta Akbar Ki Sena (Marawari)

Post a comment

0 Comments