Rashtra Ni Jay Chetananu (Gujarati)


Rashtra Ni Jay Chetananu (Gujarati)

राष्ट्र नी जय चेतनानु

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

राष्ट्र नी जय चेतनानु गान वंदे मातरम्
राष्ट्र भक्ति प्रेरनानु गान वंदे मातरम् ॥धृ॥

वंशी ना बेहता स्वरो नो प्राण वंदे मातरम्
झल्लरी झनकार झनके नाद वंदे मातरम्
शंखनो संघोश चहुदिश व्याप्त वंदे मातरम् ॥१॥

सृष्टि ना बीजमंत्र नो छे मर्म वंदे मातरम्
राम ना वनवास केरु काव्य वंदे मातरम्
दिव्य गीता ज्ञान नो आधार वंदे मातरम् ॥२॥

हल्दीघाटी ना कणो मा व्याप्त वंदे मातरम्
दिव्य जौहर ज्वालनु छे तेज वंदे मातरम्
वीरो ना बलिदान नो सिंहनाद वंदे मातरम् ॥३॥

करशु पादाक्रांत धरती गर्जन वंदे मातरम्
अरि दल थर थर कंपे सुनी नाद वंदे मातरम्
वीर पुत्रोनो अमर ललकार वंदे मातरम् ॥४॥
Rashtra Ni Jay Chetananu (Gujarati)
Rashtra Ni Jay Chetananu (Gujarati)

Post a comment

0 Comments